Wednesday, March 14, 2007

जब हम प्‍यार की बात करते हैं हम क्‍या बात करते हैं

प्‍यार के बारे में रेमंड कार्वर की एक कहानी है

प्‍यार के बारे में मेरी भी एक कहानी है

बहुत मार्मिक है कार्वर की कहानी
हमारी भी कुछ वैसा ही समझिये

ध्‍वंस, निर्ममता, हिंसा के पागलपने
का कटा-पिटा एक उलझा बयान है
कोमलता ज़र्द कोने में खडी है कहीं
प्‍यारभरे उस कमरे से
होकर जाने में भय होता है
मगर वहीं से गुज़रते हैं
संस्‍कार के सभी रास्‍ते

प्‍यार की थपकियों से लगती है आंख
और प्‍यार के ही दु:स्‍वप्‍न
जगाते हैं बीच रात

सोचिये तो एकदम सादा
लगभग ऊबाउ-सा किस्‍सा है
और सोचिये तो परतोंवाली
मदहोश करती कैसी उलझी गांठ है

प्‍यार में ही देखते हैं हम
अपना सबसे अच्‍छा आदमी
प्‍यार ही बिगाडती है
हममें हमारा आदमी

हमारे गड्ढों को ढककर प्‍यार
अपने पैरों पर हमें मजबूती से
करती है खडा. प्‍यार बनाकर
छोड जाती है हमें एक बडा
बेडौल बेमतलब का-सा विरुप गड्ढा.

कभी फुरसत में तसल्‍ली से
लिखना चाहता हूं प्‍यार
की एक मार्मिक कहानी
मगर उससे पहले सुलझा लूं
गहरे धंसी यह पेचीदा गांठ.

5 comments:

  1. अच्‍छी कविता है। आपके अच्‍छे शब्‍द चित्र खड़े करते हैं।

    ReplyDelete
  2. माफ़ कीजियेगा, बेनाम हुज़ूर/मोहतरमा, हारमोनियम लेकर जैसे कुछ बेसुरे/अधसुरे घर की दीवारों को अपनी सांगीतिक मदहोशियों से कंपाते रहते हैं, मैं भी बीच-बीच में कुछ उसी अंदाज़ में अधीर होने लगता हूं. आपने नज़र मार ली, यही बडा करम कर दिया.

    ReplyDelete
  3. शायद हममें से सब ही तो प्यार के सुधारे-बिगाड़े हैं. कभी-कभी ऐसा भी पढ़ाते रहिए. अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  4. What we talk when we talk about running...
    Murakami की इस किताब के साथ हम Carver की What we talk about when we talk about love भी ले आये थे लायब्रेरी से. दो एक साल हो गए पढ़े इन पुस्तकों को.
    आज आपकी यह कविता पढ़ी!
    मुक्त गद्य के गल्प यूँ ही लिखे जाते रहने चाहिए लगातार.
    कितनी समृद्ध विशाल और अद्वितीय है अज़दक की अलमारी... नहीं, नहीं अलमारी नहीं... अज़दक की लायब्ररी:)

    ReplyDelete
  5. Bahut Achhi Rachna Ka Varnan Aapke Dwara. Padhe Love Stories, Hindi Poems, प्यार की स्टोरी हिंदी में aur bhi bahut kuch.

    Thank You.

    ReplyDelete