Thursday, March 29, 2007

हिंदी में चिंता

बड़ी मुश्किल है बेगूसराय, मुंगेर, बनारस, बरकाकाना है हिंदी की दिल्‍ली नहीं है. दिल्‍ली की हिंदी का दिनमान, हिंदुस्‍तान, धर्मयुग नहीं है. चालीस प्रकाशक हैं उनका धंधा है. चार सौ कवि-पत्रकार हैं उनका चंदा है. हंस का पोखर और समयांतर का लोटा है. पटना के मंच से युगपुरुष कहकर सम्‍मानित हुए उनका कद भी बहुतै छोटा है.

हिंदी की छपाई में पंचांग और कलेंडर हैं वर्ल्‍ड मैप नहीं है. वर्ल्‍ड मैप का ठेका है जिसके खिलाफ़ शशिधर शास्‍त्री ने दो मंत्रालयों को लिखा है सात लुच्‍चों को तीन वर्षों से समझा रहे हैं. राष्‍ट्रहित का प्रश्‍न है, बच्‍चो, पाप चढ़ेगा. लाजपत नगर का लुच्‍चा थेथर है हंसकर पेट हिलाता है. गुटका खाता हिंदी अकेडमी की गाता है. अराइव्‍ड फ्रॉम रांची हेडिंग फॉर मॉरीशस का लुच्‍चा शालीन है शास्‍त्री जी को चार रुपये वाली चाय पिलाकर समझाता है क्‍या चिट्टी-पत्री में लगे हो, मास्‍टर. भाग-दौड़ की नहीं अब आपकी घर बैठने की उम्र है. फालतू के झमेलों में देह और दिल जला रहे हो. आराम करो मुन्‍ना भाई की वीसीडी देखो. साहित्‍य-फाहित्‍य का रहने दो यहां लौंडे हैं संभालेंगे.

बेटा बेरोज़गार है और शास्‍त्री जी समझते हैं. मंत्रालय की सीढियों पर गिरकर प्राण गंवाना नहीं चाहते. वैसे भी पिछले दिनों से हिंदी की कम जवान बेटी की चिंता ज्‍यादा है. उद्वेग, उत्‍कंठा, आकांक्षा, साधना थी मगर अब उसका आधे से भी आधा है.

इतनी भागाभागी में किसको संस्‍कार की पड़ी है. शिक्षा में टुच्‍चई समाज में गुंडई है. पुरानी स्‍मृतियों के ताप की अगरबत्‍ती जलाकर कितनी और कब तक बदबू हटायेंगे. फिर अगरबत्‍ती महंगी है ज़मीन का भाव चढ़ रहा है और नई बीमारियां बढ़ रही हैं.

हिंदी की रेट लिस्‍ट का नया सर्कुलर आया है. नई दूकानों की लाइसेंसिंग हुई है. खुली है एक देहरादून में दूसरी दूकान बरेली में. मुन्‍ना भाई और मुलायम हैं हिंदी के माखनलाल और प्रशस्‍त राजमार्ग कहां है. सत्‍ता अंग्रेजी की ही नली से निकलती है. हिंदी पियराये कागज़ की नाव है संकरी नाली में बह रही है.

(पुनश्‍च: अंतरजाल में भी वही हाल है. सात छंद और सत्रह सेवैया है उससे बाद का बाहरी गवैया है. लोग आंगन में भंटा छत पर भतुआ फैला रहे हैं. तरकारी को बघार और घर-दुआर बुहार रहे हैं. कहते हैं इसी में सुख है. हिंदी का यही लुक है.)

5 comments:

  1. ये रंग भी सुहाना है..

    ReplyDelete
  2. कमाल है प्रमोद भाई, आपके व्‍यक्तित्‍व के जितने रंग सामने आते जाएंगे, हम उतने-उतने आपके मुरीद होते जांएंगे।

    ReplyDelete
  3. संजय बेंगाणीMarch 23, 2007 at 1:48 PM

    रोने क्या होगा जी?

    हिन्दी को बाजार की भाषा बनाईये, सारे दुख दूर हो जाएंगे.

    ReplyDelete
  4. खूब भालो लिखेछो . किंतु एटा बिडम्बनार बिडम्बन . आमरा सबाइ के मिलित भाबे किछु कोरते हौबे .

    ReplyDelete
  5. हिंदी पियराये कागज़ की नाव है संकरी नाली में बह रही है.

    बढिया लिखा । लेकिन 'लुक' कैसे बदला जाय ?

    ReplyDelete