Tuesday, April 24, 2007

किताबें और नीना सिमोन

आज लिखने का जी नहीं.. बीस वर्ष नहीं, एच की मौत नहीं.. छंद, मुक्‍त कुछ भी नहीं.. झोले में कुछ किताबें ढोकर लाया हूं, उनके बीच गर्दन धंसाये शाम गुज़ारना चाहता हूं.. नीना सिमोन को सुनना चाहता हूं.. जिन्‍हें जैज़, और खास तौर पर पुराने जैज़ से मतलब है.. शाम की बेचैनियों और इवनिंग ब्‍लूज़ से मतलब है, उनके लिए नीना की ये चंद थरथराती लाइनें..

I want a little sugar
in my bowl
I want a little sweetness
down in my soul
I could stand some lovin'
Oh so bad
Feel so lonely and I feel so sad

I want a little steam
on my clothes
Maybe I could fix things up
so they'll go
Whatsa matter Daddy
Come on, save my soul
Drop a little sugar in my bowl
I ain't foolin'
Drop a little sugar in my bowl

Well I want a little sugar
in my bowl
Well I want a little sweetness
down in my soul
You been acting strangely
I've been told
Move me Daddy
I want some sugar in my bowl
I want a little steam
on my clothes
Maybe I can fix things up so they'll go
Whatsa matter Daddy
Come on save my soul
Drop a little sugar in my bowl
I ain't foolin'
Drop some sugar- yeah- in my bowl.

2 comments:

  1. बहुत सुंदर, नीना की पंक्तियॉं, एक उदास शाम और आपकी पसंद, सबकुछ।

    ReplyDelete
  2. मन को छू लेने वाली करुण पुकार . अच्छे जीवन के लिए कितना कम चाहिए होता है पर त्रासदी यह है कि वह भी मयस्सर नहीं होता .

    ReplyDelete