Friday, December 7, 2007

ए सर्टेन एम्बिग्‍युटी..

कैमरे के व्‍यूफाइंडर में वह आईना दिख रहा है जिसमें व्‍यूफाइंडर से आईने पर नज़र गड़ाये मैं खुद को देख रहा हूं.. इस आशिंक दिखने के देखने को प्रसन्‍नता नहीं है.. निठल्‍लेपने के अलग-अलग क्षणों में बेचैनी उस ख़ास दिखने को देख लेने की है जो मेरे निज की जानी हुई पहचान को कैप्‍चर कर ले.. बट विल दैट बी पॉसिबल? इज़ पॉसिबल? निज की जानी हुई पहचान का अमूर्तन क्‍या एक फ़ोटो में मूर्त रूप पा सकता है? एक नौसिखिये की ऊलजुलूल उधेड़बुनी खुराफाती बेचैन हरक़तों में? आई क्लिक सम मोर स्‍नैप्‍स डिसजोंयेटेडली एंड वंडर.. लेकिन सुबह-सुबह क्लिक-क्लिक करते हुए सिर्फ़ यही नहीं है जो सोच रहा हूं..

चौदहवीं सदी के बेरगमो के उस बादशाह के असमंजस का भी ख़्याल है जिसने फिरेंज़े के एक पहुंचे हुए व्‍यवसायी से पूरब का मलमल खरीदा है, और आईने में अपनी गुलाबी नयी धज देखता दुविधा में है कि सामंतों का साथ निभाने की पुरानी परिपाटी निभाता चले, या तेज़ी से अमीर हो रहे व्‍यवसाइयों पर अपने अजाने भविष्‍य का सब दांव पर लगा दे!.. पिता के दाहिने पैर के काले, मुर्दा पड़ गए नाखून की याद करता हूं. क्लिक-क्लिक. मैं दीप्ति से कहता इफ यू गो ऑन लुकिंग एट समथिंग फ़ॉर प्रिटी गुड लेंग्‍थ ऑव टाईम, यू विल गेट टू द हार्ट ऑव इट्स एसेंस. वह पलटकर जवाब देती- ऑन द कंट्रररी, इफ यू कीप लुकिंग एट द सेम डैम थिंग, यू लूज़ सेंस ऑव ऑल पर्सपेक्टिव! क्लिक-क्लिक. ओह, व्‍हाई गेटिंग अ सिंपल, प्रॉपर स्‍नैप इज़ सच एन इम्‍पॉसिबिलिटी? लाइक अराइविंग एट अ डिसिज़न कि कल कलकत्‍ता जा रहा हूं या नहीं. माने जा तो रहा ही हूं इन द सेंस कि टिकट कटवा लिया है, कपड़े धुलवा लिया हैं, किताबें और झोला और बाकी दंद-फंद सजा लिया है. बट इन माई हार्ट ऑव हार्ट आई एम नॉट कंविंस्‍ड व्‍हेदर आई कैन मेक इट इन माई प्रेज़ेंट स्‍टेट ऑव बीइंग, गुड ऑर बैड व्‍हॉटेवर? सो इन अ सेंस मैं कल कलकत्‍ता जा रहा हूं. क्लिक-क्लिक. मगर कलकत्‍ता पहुंचकर थकान और एक कटा-पिटापन ही जीना है तो जा क्‍यों रहा हूं इन द फ़र्स्‍ट प्‍लेस? लोग ऐसे ही नहीं कहते (लोगों से ज़्यादा मैं कहता हूं) कि लाइफ़ इज़ फुल ऑव फ़नी एंड स्‍ट्रेंज एम्बिग्‍युटिज़..

2 comments:

  1. टू बी ऑर नॉट टू बी .....??? इसके बारे में क्या ख्याल है ?

    ReplyDelete
  2. सब एम्बिग्युटिज़ की एक पोटली बाँध साथ रखिये....सफर और गंतव्य दोनो अर्थपूर्ण हों...शुभकामनायें

    ReplyDelete