Wednesday, February 27, 2008

फेसबुक फटीग

पता नहीं ऑरकुट का हमेशा मेरे दिमाग़ में एक चिरकुट सा असोसियेशन क्‍यों रहा है.. इससे ऑरकुट की कमतरी और मेरी समझदारी नहीं ज़ाहिर होती.. मगर उन सभी एंप्‍लॉयर्स के लिए चिरकुटई ज़रूर ज़ाहिर हुई है जिनके यहां काम करनेवाले अपने काम से जुड़ने की जगह, ऑरकुट की नेटवर्किंग में अ जोड़-घटाव करते रहते हैं.. सोशल नेटवर्किंग के ये नये मीडियम- ऑरकुट, फेसबुक- का अच्‍छा इस्‍तेमाल क्‍या है ये तो उसका नियमित उपयोग करनेवाले जानें, मगर आप मोरक्‍को में हैं और आपने फेसबुक के अपने प्रोफाइल में कुछ मस्‍ती की है तो आपके अच्‍छे-खासे नुकसान की गारंटी ज़रूर है!..

फ़ायदे हों, नुकसान हों, आधुनिक जीवन के अब ये ढेरों चोंचले हैं जिनमें हमारे दिन का खासा समय उलझता रहता ही है, वजह चाहे जो हों.. जिज्ञासावश, अनजाने, यूं ही नेट सर्फियाते हुए.. या फिर मेरी तरह कहां की बात में कहां टहलाते हुए.. मालूम नहीं फ्री-सेल या सोलितेयर की तरह कभी इससे लोग थकेंगे या इसीमें धंसे रहेंगे.. इकॉनमिस्‍ट अपने एक सर्वे में बता रही है कि फेसबुक से लोगों के थकने के लक्षण दिख रहे हैं.. जवाब में काफी रोचक किस्‍म की टिप्‍पणियां हैं (ठीक है रोचक हैं मगर आप क्‍यों देखें? इसीलिए कि चिरकुटई की जिज्ञासा में मैं दिखाये बिना, और आप देखे बिना बाज नहीं आयेंगे!).. तंजानिया के फीरोज़अली की टिप्‍पणी पढ़ि‍ये.. वहीं से कट एंड पेस्‍ट कर रहा हूं..
Facebook fatigue
Give me a break
I register
Give my password
Give my address
Tell all those who visit my details
I do not know them
When I post a comment I am told to type two separate words
As is I have a wrist problem
Arthritis my doctors tell me. Bad for the face book and toes and fingers.
Then I get hundreds of friends asking for addresses, donations
That I can do seating down near a theatre drunk I mean giving my address to all
May be some one is stamping my credit card number when the face and the book is open. I am sorry I call this face and book as the word they ask me to type are two
Duo
At times I am told by the FACEBOOK, You have violated our right so we are chopping you off. You no longer have a face.
Fine I say
I go to yahoo etc.
I am still same
I
have face I have friend
I am blogging writing reading advertisement.
So tell me what I have lost
The two words that waste my time the robot avoiding word. I have not seen any robot recently writing any blog. Have you?
I thank you
Firozali A. Mulla MBA PhD
P.O.Box 6044
Dar-Es-Salaam
Tanzania
East Africa

2 comments:

  1. जादू है..नशा है..मदहोशियाँ हैं...बस, बहने वाले जान सकते हैं. हाल ही में ऑरकुट की नौटंकी में तय शादी को टूटते देखा, अफसोस से ज्यादा क्या करता??

    ReplyDelete