Tuesday, February 12, 2008

जो इंडिया शाइनिंग की सोच पर फुदकते हैं, यह उनके लिए है..



जो इंडिया शाइनिंग की सोचते ही बलून की तरह फूलने लगते हैं, चेहरा कोमल व बगलों में गुदगुदी होने लगती है.. उनसे विनम्र निवेदन है, थोड़ी देर के लिए अपनी फुदकन को विश्राम देकर इस लिंक पर ज़रा सा समय दें.. पढ़ें, गुनें, विचारें.. फुदकना फिर भी अनिवार्य लगता रहे तो फिर मज़े से होलूलू-होलूलू करें..

1 comment: