Wednesday, March 19, 2008

इराक में अमरीकी घुसपैठ के पांच साल..

आज की रात इराक के अलग-अलग हिस्‍सों में ढेरों कहानियां होंगी.. ढेरों आवाज़ें, तकलीफ़ों के उलझे पुलिंदें होंगे.. जाने कोई उन्‍हें सुननेवाला होगा या नहीं.. मैं भी नहीं सुन रहा.. बस उजाड़ में किसी कहवाघर का एक ऊलजलूल कल्‍पनालोक गढ़ रहा हूं.. बेमौसम की बरसात, बेतुका हारमोनियम और कुछ यूं ही मन के उठते जलज़लों का..

7 comments:

  1. Behatareen aur arthpoorna. badhai.

    ReplyDelete
  2. केवल पाँच साल? हिसाब से तो सत्रह साल हो गए....

    ReplyDelete
  3. Ajee saahab aapne to aankhein khol deen! Bus agar aakheer mein kalmaa sahee padh dete to paanch chaand lag jaate. Sachmuch khuda ghaarat kare in naamuraadon ko!

    ReplyDelete
  4. behtareen prustuti hai. hail BLOGARCH!

    ReplyDelete
  5. चचा हैदर , पांचै साल में कचुआ गये!

    ReplyDelete
  6. कुछ साथ काम करने वाले हैं - मुंह्जबानी किस्सों में दर्द और भी है - वो फिर कभी - आज होली की शुभ कामनाएं - सादर - मनीष

    ReplyDelete
  7. जरा और विस्तार में जाइए. अमरीकी हमले से पहले का पोडकास्ट सुनवाइये. कुवैत पर हमला करते वक्त चचा हैदर और रसूल मियाँ की खुश्फहम रंगीन चर्चाएँ, इतिहास के एक जालिमतम तानाशाह के दरबार में बैठे कठपुतली सैनिक अफसरों की बातचीत, अपने हाथों से अनेकों हत्याएं करने वाले, धोका देकर अपने दामादों का कत्ल करने वाले, माइनोरिटी का दमन करने वाले तानाशाह की शान में कसीदे काढते चचा हैदर. विषय तो बहुत हैं. इंतजार करें क्या?

    ReplyDelete