Wednesday, July 16, 2008

25,200 दिन ओन्‍ली? व्‍हाट् नॉनसेंस..

छठवीं सदी ईसा पूर्व कभी एथेंस के कवि सोलोन ने कहा था कि मान लिया आदमी की औसत उम्र सत्‍तर साल होती है (ओह, भाग्‍यवान थे एथेंस निवासी कि ईसा पूर्व छठवीं सदी में आदमी को सत्‍तर साल दे सकते थे, वर्ना तो अपने यहां अयोध्‍या, मगध, कौशल, यहां तक कि बहुत बाद-बाद के दिल्‍ली तक के शासनकालों में- औरत का तो ज़ि‍क्र न ही करें- आदमी को ले-देकर कितने वर्ष दे रहे थे? अभी कुछ सदियों पहले यूरोप तक में लोग पट्- पट् करके इस दुनियावी मंच से विदा लेते थे. पता नहीं खुशी-खुशी लेते थे, या जीवन भर रोते रहने के बाद जाते भी रोते-रोते ही थे? औरतों के मज़े का तो कहना ही क्‍या; प्‍लेग, हैजा, बाढ़, भूकंप से किसी तरह बच भी गयीं तो जचगी में पुन: ईश्‍वर की प्‍यारी हो सकें, इसका सुअवसर बचा ही रहता था).. देखिए, सत्‍तर की रोमांचक संख्‍या सुनकर मैं आरंभ में ही भटक गया. एथेंस निवासी ईसा पूर्व छठवीं सदी में भाग्‍यवान थे, अब पता नहीं उनके भाग्‍य का सूचकांक क्‍या है, मगर हम तो प्री और पोस्‍ट अयोध्‍या सभी कालों में कमर पर ज़रा सा कपड़ा डाले झोपड़े के बाहर गाय की दूध की चिंता में दुबले होते रहे हैं, या पड़ोस के गांव से गाय चुराने के ख़्याल से खामख़्वाह रोमांचित होकर असमय बीमार होते रहे हैं, तो हमारे दुर्भाग्‍य का क्‍या, जबसे सृष्टि में हमारा आविर्भाव हुआ है, घास और गुदड़ी की संगत में हम चिरंतन के अभागों के लिए उम्र के सत्‍तर क्‍या और सात क्‍या?..

मगर मोर्टेलिटी के प्रति मेरी ऐसी निष्‍ठुर निस्‍पृहता संभवत: स्‍वस्‍थ्‍य लक्षण नहीं. कुत्‍ते का जीवन व्‍यर्थ है क्‍योंकि उसकी मात्रा बड़ी नहीं? और हाथी की ज़्यादा है इसलिए कि उसकी उम्र लंबी है? मगर सोचकर ईमानदारी से बताइये, लंबी उम्र लेकर हाथी ने आखिर उखाड़ क्‍या लिया? दुनिया में आज आपको लंबी उम्र वाले हाथी ज़्यादा दीखते हैं, या श्‍वानउम्री कुत्‍ते? हद है लेकिन. लोग उम्र सहेज-सहेजकर रखते हैं, मगर मैं अपनी बहक सहेज नहीं पाता. एथेंस के कवि सोलोन के बारे में कह रहा था (सोचिये तो छठवीं सदी ईसा पूर्व यूनानी कवि क्‍या-क्‍या उल्‍टा-सीधा सोच लेता था, जबकि अपने यहां इक्‍कीसवीं सदी के पूवार्द्ध में भी, बिना कवि हुए तक हम कुछ सीधा कहां सोच पाते हैं?)..

ख़ैर, सोलोन ने जो बहुत सारी उल्‍टी-सीधी बातें कहीं, उसमें अपने ज़माने के अमीर बादशाह, एशियायी लिदिया मुल्‍क के क्रोयसस की हेकड़ी यह कहकर खत्‍म करने की भी थी कि हे राजन, अपनी अमीरी पर अन्‍यथा गुमान न कर. क्‍योंकि मान लिया जाये आदमी की औसत उम्र सत्‍तर साल है, तो इसमें 25,200 दिन हुए, अब सवाल उठता है एटसेट्रा, एटसेट्रा..

लेकिन नहीं, एक मिनट, सोलोन साहब, यू जस्‍ट सेड समथिंग प्रिटी शॉकिंग, सर? 25,200 दिन इन अ लाईफ़? दैट्स इट? दैट्स गौडेम इट? इस संख्‍या को देखते ही मैं जकड़ गया हूं और तब से हिसाब लगाता बैठा हूं कि इसमें कितने दिन रेल की लेट-लतीफी के पीछे, कितना एमटीएनएल, बीएसएनएल और पता नहीं किन-किन एलों के पीछे होम हुआ; चिट्ठि‍यां लिखने और चिट्ठि‍यों को पढ़कर रो-रोकर मन दीवाना कर लेने के कितने दिन रहे? रूठकर खाना छोड़ देने के? अख़बारों के बेमतलब के सप्‍लीमेंट और टेलीविज़न की चिरकुटइयों के पीछे जो खराब हुआ उसकी तो जितना न सोचा जाये उतना अच्‍छा. पहाड़ों की यात्रा के कितने दिन रहे? प्राचीन सभ्‍यताओं के रस-संचार की तह तक पहुंच लेने, या आधुनिक भावबोध की हवा से छाती भर लेने के? किसी झील के किनारे आंखें मूंदे लेटे रहने के? कितने सारे झगड़ों के, संगतों से पैर पटककर बाहर निकलने के रहे हैं, पैर सटाकर दिल जोड़ने के कितने रहे हैं? अपनी बातों से किसी छोटे बच्‍चे को खुशी में पागल करने के? समाज और कला के? कितने दिन? उंगलियों पर गिनकर चट खत्‍म हो जायें, बस उतने?

पता नहीं जानकर आपको बेचैनी हो रही है या नहीं, मैं हाथ में जलती सिगरेट लिए अचानक एकदम असहज महसूस कर रहा हूं. एक जीवन में, मेरे ख़्याल से, 25,200 क्‍या है, बहुत कम हैं. वह अ से लेकर ज्ञ तक की ठीक-ठीक यात्रा करने भर को भी काफी है, हो सकेगी? ओह, सिन्‍योर सोलोन, सडेनली नंबर्स सीम टू मेक सच ए फ़ार्स ऑव लाइफ, डोंट यू थिंक?

3 comments:

  1. मुझे भी कम लग रहे हैं पर शायद जब तक हम बूढ़े हों, यह संख्या कुछ बढ़ जाए। :)

    ReplyDelete
  2. भाई जी,यह २५२०० तो टोटल है और जो कट लिए, उनका क्या? अब तो बचे ८०००/९००० में ही पूरा शो मैनेज करना है. अब क्या खाक दीवाने होंगे!!! काहे, हमारा चैन से बैठना झेल नहीं न पाये जो नींद उडवाये दिये इ गिनती गिनवाये के..कौन जरुरत थी जी?? लगता है पानी नहीँ बरस रहा तो जी झुरा रहा है..है न!!

    ReplyDelete
  3. ये रियलाइजेशन सचमुच बड़ी तकलीफदेह है. मुझे जब ये अहसास हुआ था तो इस दुनिया में मेरे दस हज़ार दिन भी नहीं हुए थे. और यक़ीन मानिए, इसी सोच में 10-15 दिन और यूँ ही निकल गए थे. आप ज़्यादा मत सोचिएगा.

    ReplyDelete