Friday, November 7, 2008

एक लघुव्‍यथा लाईनों में..


हमेशा एक एंगल होता है.. हर एंगल में एक स्‍टोरी होती है..


सचमुच होती है?



कोई पूछता किसी दिन..


या क्‍या मालूम समझदार होता, शायद चुप रहता..

4 comments:

  1. आज जाना कि ऐसी भी लघुकथा होती है !!क्या सचमुच होती है? बेंगल के एंगल पे क्या स्टोरी बनेगी?

    ReplyDelete
  2. पांचों चित्रों ने कही,अपनी अपनी बात.
    पांचों मिलकर भी बने,पुनः नई ही बात.
    सुनो नई एक बात,स्वयं मरने से पहले.
    इस भ्रम-जाल को तोङो,कुछ करने से पहले.
    कह साधक सच बात बताई इन मित्रों ने.
    वोट-तन्त्र की बात कही,पांचों चित्रों ने.

    ReplyDelete
  3. सचमुच होती है पर समझ में आते आते देर हो जाती है।

    ReplyDelete
  4. vaah vaah! ab kalakaari bhi dekhne ko milegi. :)

    ReplyDelete