Monday, February 9, 2009

शब्‍द..

कितने सारे तो. गिरे पड़े. कितना अच्‍छा होता लेकिन कहां हुआ की आह की भाप सोखते. तरतीब में गुंथने को अकारथ बिखरे. बेचैन. हदर-बदर भागते इधर-उधर किधर. बेचारे. शब्‍द. दानों के पीछे गिरी जातीं चिड़ि‍यायें सदल-बल. फिर कभी जैसे दंगों में छूटे ओह, लावारिस चप्‍पल. हल्‍ला. बहुत सारा. बच्‍चे. बहुत सारे. हौंड़ा-हौंड़ी में हिलगते भागते. पहुंचते. एक बच्‍चा. नहीं पहुंचता. खोज होती खबर होती हेरा गया. राह तकती इंतज़ार में आंखों के गूमड़ फूटते लेकिन फिर नहीं आता. खोया हुआ. शब्‍द. खोये से सन्‍नद्ध सही-सही अपने को ज़ाहिर कर पाने में हारी रह गयी बात. जगमग सितारों की समूची भव्‍य रात और फिर सुहानी सुबह का साथ. हूकते से साज़ घिरे, भय में बेसाख़्ता चीख़ते कभी बेसुरे. किंतु आत्‍मा थ्रिर रहती. बेआवाज़. जैसे कामों की अबल-तबल की घनघोरी व्‍यस्‍तताओं में न हो पाता हो खुद से संवाद. आंखों तक पहुंचना छूट गयी हो किंतु मन में उठती हो कभी बिन बताये आयी सुर्ख़ लाल ताप. हंसते फिरते हों सारे-सारे दिन लेकिन हंसी न हो. रोते में रोते में सूख जाते हों हलक लेकिन फिर यह भी याद पड़ता न हो कब रोये थे आख़ि‍री बार. या गिरे थे जब? तब से यूं ही तो पड़े थे.

5 comments:

  1. लगता है आज शब्द दिवस है। शब्दों का सफर से इब्तदा हुई और शब्दों पर चौथी पोस्ट है।

    ReplyDelete
  2. किताब से टूटकर गिरे,धूल में लिपटे, अँतरों में फँसे, मन में धँसे, दिल में गड़े, स्कूल की पुरानी कॉपी में ग़लत हिज्जे वाले या पहली बार दिल्ली में अँगरेज़ी में बोले गए 'एक्सक्यूज़ मी' टाइप शिष्ट शब्द...कैसे शब्द हैं, कितने तो शब्द हैं, जितने उठाते हैं, उससे ज्यादा गिर जाते हैं....

    ReplyDelete
  3. सब-कुछ आपस में गुत्थम-गुत्था....
    जाने क्या अच्छा सा..

    ReplyDelete
  4. Pramod ji,
    sundar evam achchhe shabdon ka kolaj banaya apne.badhai.
    Hemant Kumar

    ReplyDelete
  5. बहुत दिनों बाद शरीफों जैसी तस्वीर टांगी है बाबूसाब...
    घणा आछा लाग रिया सा..

    ReplyDelete