Wednesday, September 2, 2009

वो रजत रातें.. और दिन..



(स्‍केच को बड़ाकार देखने के लिए क्लिकियाकर अलग खिड़की में खोलें)

7 comments:

  1. गुरुदेव की रचनात्‍मकता को नमन।

    ReplyDelete
  2. Yup!! Everything is so fresh in mind!! so no comments!!

    ReplyDelete
  3. बस एक शब्द... वाह!

    ReplyDelete
  4. जिंदगी कैसी है पहेली हाय ......दम ले ले घडी भर .....

    ReplyDelete
  5. हमारे जैसे नौसिखियों को सीखने के लिए काफी कुछ मिल सकेगा..
    अद्भुत..आप कौन से रंगों का इस्तेमाल करते हैं..बेहद यूनीक
    ट्रीटमेंट है ..

    ReplyDelete
  6. mujhe bhi sikha denge ye jo aap karte hain, rang bharte hain, deewana banate hain aur kaise to asar karta hai sab ek sath milkar. Aur haan font bhi to zabardast hota hai.
    Bhayankar creative hai ye sab.

    ReplyDelete
  7. bahut acche hai..ye .....
    ab isse jada kahuga tho aap khichaiya kar denge.

    ReplyDelete