Thursday, October 8, 2009

कितना कही कह गई जो नज़र..





क्‍या कहता है एक लेखक का चेहरा? बता पाता सुलझा जाता है क्‍या देखा होगा इन अलसायी आंखों ने, जिया होगा गाल के हाथ और बोतल के साथ ने? कैसे-कैसे शब्‍द.. कहां-कहां से चले आए होंगे? अभी, बिलकुल अभी आने, आनेवाले भी होंगे..

3 comments:

  1. कैसे कैसे शब्द वाला लिंक तो काम का निकला..

    ReplyDelete
  2. @कुश,
    बाजू में दूसरा भी है, बड़ा है, बड़ों का है..

    ReplyDelete
  3. कितना कुछ जुटा रखे हैं सर जी... सर खुजाने लगता हूँ आपके पोस्ट पढने के बाद, पूरी उम्र पढाई ही की है क्या ?

    ReplyDelete