Friday, December 11, 2009

एक चित्रित बहक..




(तस्‍वीर को बड़ाकार देखने के लिए इमेज़ पर चूहा ले जाकर इमेज़ को नये टैब में खोलें.)

2 comments:

  1. आप के चाहे चित्रा हों या लेख सब ख़ास होते हैं

    ReplyDelete
  2. Ab jab bahak hee gaye hain to tipiane men lajayen kyon....?
    achchhee lagee yah post.
    HemantKumar

    ReplyDelete