Wednesday, March 17, 2010

संध्‍याराग के बाद अब मैं क्‍या गाऊं, नहीं, मम्‍मा, तुम बताओ!

टैरेस पर इतने लोगों को देखकर सोहा घबरा गई. ज्‍यादातर अनजाने चेहरे. पहली बात दिमाग में यही आई कि चुपचाप उल्‍टे पैर वापस लौट जाए. (उसी पल दिमाग में ब्‍लौंडी का बैलून भी पॉप-अप हुआ, ‘हां, लौट आओ वापस और आकर मेरा जीना हराम करो, राइट?’ ब्‍लौंडी का तकिया-कलाम है. सोहा घर में है मतलब ब्‍लौंडी का जीना हराम कर रही है. पता नहीं कहां से सीख लिया है पागल ने. किसी दिन उसे घुटने के नीचे दबाकर सोहा सवाल करना चाहेगी कि तुझे जीना हराम का मतलब मालूम भी है, इडियट?’ मगर नैचुरली, ऐन उसी मौके कमरे में मम्‍मी चली आएगी और चेहरे पर हॉरर के एक्‍सप्रेशन के साथ सवाल करेंगी, ‘तुम कर क्‍या रही हो? आर यू ट्राइंग टू चोक यूअर ब्रदर्स ब्रीदिंग?’ फिर सोहा बेवकूफों की तरह मां को देखेगी और चिढ़के उसके मुंह से निकलेगा, ‘यस! वन ऑफ़ दीज़ डेज़ आयम गोइंग टू!)

खंभे के पास एक टेबल पर खाली बोतल और सफेद प्‍लास्टिक कप्‍स रखे थे, सोहा उसके बाजू जाकर खड़ी हुई और इधर-उधर टी के लिए देखने लगी. टी पर गुस्‍सा आ रहा था कि उसने पहले बताया क्‍यों नहीं कि इतने लोग आ रहे हैं. वह बैगी का पाजामा और ‘डोंट पिन यूअर होप्‍स ऑन मी’ के स्‍लोगन का एक घिसा हुआ टी-शर्ट पहने हुए थी, मानो नीचे गली में ब्रेड और अंडे खरीदने के लिए निकली थी और वहां से सीधे टी के टैरेस पर चली आई हो! (दिमाग में ब्‍लौंडी के बैलून ने इम्‍मीडियेटली अनाउंस किया, ‘कमॉन, दीद, तुम ड्रेस-अप होके आती तो भी क्‍या फर्क पड़ने वाला था, नो बडी वॉज़ गोइंग टू फाइंड यू अट्रैक्टिव एनीवेज़! शाम को फील्‍ड में लड़के बड़ी लड़कियों के बारे में कितनी गंदी बातें करते हैं, लेकिन तुम्‍हारे बारे में बात करते उनको मैंने कभी नहीं सुना!')

इस ब्‍लडी बैल ब्‍लौंडी का इलाज क्‍या है, है? सोहा सोचती और फिर उसे लगता कि उसका यह सब सोचना भी फिजूल है. मीनू ब्‍लौंडी से दो साल छोटी है, स्‍टैंडर्ड टू में पढ़ती है, वह तो ब्‍लौंडी की तरह हर तीसरे मिनट स्‍मार्ट दिखने के कंपल्‍शन का शिकार नहीं, लेकिन अभी तब की तो बात है, मेहता आंटी के घर बच्‍चों की पार्टी थी, ब्‍लौंडी बाथरुम बिना फ्लश किये बाहर आ रहा था, आंटी वहीं दरवाज़े के पास थीं, उनके टोकने पर जवाब मीनू ने दिया था, ‘ही ऑल्‍वेज़ डज़ दैट, आंटी, नो पॉयंट ट्राइंग टू करेक्‍ट हिम!’ फिर इसके पहले कि ब्‍लौंडी आकर उसका मुंह नोंच ले, लड़की ने मुस्‍कराते हुए इनोसेंटली आनसर किया था, ‘बट मैं भी बेड वेट कर देती हूं, एवरी वन इन अवर हाउस..’

रात में मम्‍मी के काम से घर लौटने पर ब्‍लौंडी ने अपने सिर में उंगली घुमाते हुए मीनू के जवाब की नकल, कि कैसे उसके घर में हरेक का स्‍क्रू ढीला है, का डेमो दिया था, मम्‍मी दुखी होकर सोहा को देखती रही थीं जैसे अपने भाई-बहन के पागल होने के लिए अकेली वह रेस्‍पॉंसिबल है!

तीन लड़कों का एक ग्रुप है, आपस में हंसते हुए बात कर रहे हैं, उनमें एक चेक शर्ट पहने लड़का है, बीच-बीच में सोहा की तरफ़ स्‍माइल करते हुए ऐसे देख रहा है मानो उनकी पहचान हो. सोहा थकके चेहरा घुमा लेती है. क्‍या करे, घर लौट जाए? लेकिन सोहा मम्‍मी से झगड़ा करके निकली है कि वह ग्‍यारह बजे से पहले लौटेगी नहीं! पराग पूरे-पूरे दिन घर से गायब रहता है, मम्‍मी उससे हिसाब क्‍यों नहीं लेती, सिर्फ सोहा को ही घर में बंद रहने की क्‍यों जरुरत है?

और ऐसे मौकों पर जैसा आजकल सोहा और मम्‍मी के बीच होता है, मम्‍मी ज़हर का घूंट पियी नज़रों से उसे घूरती रही. सच्‍चायी है सोहा भी मम्‍मी से झगड़ा कर-करके थक जाती है. सुबह-शाम जब भी उनके चेहरे की तरफ देखो, जैसे बारह बजे हुए. पराग से शिकायत करो तो वह मुंह पर चादर तानकर कहता है प्‍लीज़, सिस्‍टर, लीव मी अलोन!

सोच-सोचकर कभी सोहा का दिमाग चल जाता है. पराग से हो नहीं सकती, मम्‍मी से पॉसिबल नहीं, फिर किसके साथ बैठकर सोहा मन की बात करे? ब्‍लौंडी और मीनू के साथ? क्‍योंकि पापा के साथ तो कर नहीं सकती! पूरी दुनिया को उल्‍टा-पुल्‍टा कर ले तब भी इट वोंट बी पॉसिबल एनी मोर, टू हैव पापा अराउंड एंड हैव अ वर्ड विद् हिम, एंड दैट्स अ फैक्‍ट! सोहा ने सोचा और उसके दिल पर टप्-टप् आंसू के बूंद गिरते गए..

(जारी..)

4 comments:

  1. खुद को घुटने के नीचे दबा कर टिपण्णी लिख रहा हूँ.. रोम रोम पुलकित कर देते हो सर जी..
    सोहा वाली प्रोब्लम मेरी सारी ही फ्रेंड्स को है.. एंड आई एम् श्योर कि पराग भी अन्दर ही अन्दर ये महसूस करता होगा.. हम लोग सब जानते है पर सभ्यता की चाशनी में लिपटे पड़े रहते है..
    स्टोरी जारी है तो हम भी जारी रहेंगे.. आप बस रोमांचित करते रहिये..

    ReplyDelete
  2. और हाँ, ये चेक वाले लड़के से हर सोहा भिड़ना जानती है..

    ReplyDelete
  3. kush se ittifaq rakhta hoo. Aapki post padh ke zindagi ke ghutno mein samaane ko jee karta hai. magar ye zindagi. ufff.
    thanks a lot.

    ReplyDelete
  4. ब्लोंडी से बोलिए सुधर जाये वरना मैं आकर फोड़ दूंगा उसे..

    ReplyDelete