Thursday, February 24, 2011

मोहब्‍बत रफी के लगले एगो मूचिकल पाल्‍टी..

जोति भौजी के जान मुंह में आ रहा है. सात हालि आंख और ओंठ बनाके इनके देख-देख इसारा की हैं, मगर ई हैं इधर देखिए नहीं रहे हैं, जाने किधर आंख फंसाये हैं, कवन फूल कि बाती में मन अझुराये हैं! जरा देर पहिले गाय के गाल से गाल सटाये गाये रहे थे, ‘एक हसीन साम को दिल मेरा खो गया..’, अब छत के खपरा पे नचनिया नाच खेल रहे हैं! लाजे भौजी के बुझा रहा है कहीं कोना कंबली ओढ़ के लुका जायें. मगर गरदन के ठेपी चैन कहंवा लेये दे रहा है? अब ई दुसरका कवन वाला गाना छेरे हैं रे, पुतुलिया?

पुतुलिया चुनमुन के गोदी में झुलाये आंख फैलाये खबर करती है, ‘आज कहो तो बढ़के मोड़ दूं बकत के धारे, दिल पुकारे, आ रे, आ रे..’

हे भगवान, चंदन किरिया, इनके अकिल के का हुआ है? सुबहीये से.. हाथे मंजन पकड़ाये तो चिंहुके बोले लगे, ‘देवाने का नाम त पूछो, धाम त पूछो? दुकानी का अड्रिस पूछो,’ अरे? मंजन का पहिलहीं भांग पी लिये हैं का जी? हमरा उंगली खींचके बहके लगे, ‘अइसन त मोरी तकदीर नै थी तुमसा जो कोई महबूप मिले, दिल आज खुसी ले पागल है ऐ जाने बफा तू खूब मिले!..’ दइया गे दइया..

चौबे जी का नीम का नीचवा राजिन्‍नर चाचा सैकिल थामे केकरा से त बतिया रहे हैं, सुनेंगे त का सोचेंगे इनका सुझा रहा है? ठेहुना पर थप-थप हिला रही है मगर पुतुलियो के ध्‍यान चुनमुन में नहीं है, मुंहे-मुंह चाचा के गवनई गोनगोना रही है, ‘जब तोसे नजर टकराई सलम, जज्‍बात के एगो तोफान उट्ठा, तिनके की तरह हम बह निकली, सैलाप मोरे रोके ना रुका..’

सब दिलकुच्‍चन के मजा कर रहे हैं अऊर उधर रसोई में बिलार मौसी आके चुनमुन के दूध सब सफ्फा कर गईं!

और ओसारे में कवन है दरवाजा खड़खड़ा रहा है, जमादार जी हैं का? ‘पाहुन दू गो बीड़ी दीजिएगा?’

देवार का दूसरिका ओर से जनारदन के काकी पूछ रही हैं, ‘हे जोति, घेंवड़ा में ईमली डालते हैं, हो?’

भौजी का चेहरा उतिर गया है, ऊ का जानें घेंवड़ा में इमली डालते हैं कि नहीं, ऊ तो अभी घरे का मोहब्‍बत के कीर्तन फरिया लें, ‘जिया ओ जिया ओ जिया बोल दो, दिल के परदा खोल दो..’

5 comments:

  1. कोई नहीं, सिर्फ अज़दक और कोई नहीं

    ReplyDelete
  2. ईस दिल के टुकरे हजार हुए केहु इहाँ गिरा केहु उहाँ गिरा...

    गजबै करते हैं जी।

    ReplyDelete
  3. @नीरज,
    अज़दक माने मोहब्‍बत रफी..
    इससे जादे के माने जानना हो तो पिलिच, ब्रेख्‍त के नाटक 'खड़िया का घेरा' से संपर्क साधो.

    ReplyDelete