Wednesday, April 15, 2015

कल आज और कल..

आदमी इतना बेचैन क्‍यों रहता है. झांक-झांककर इस और उस आईने में देखा फिरता है. देखने की भटकनों की एक यह खिड़की भी :






1 comment: